ED ने प्रमुख चक्रवर्ती से पुन: पूछताछ का नोटिस भेजा है ED ने सूत्रों के हवाले से कहा कि ED ने सोमवार को फिर से रिया चक्रवर्ती को गलत ब्योरा दिया

0
19

खुद की सीबीआई जांच की मांग थी

खुद की सीबीआई जांच की मांग थी

प्रधान चक्रवर्ती ने खुद सुशांत सिंह राजपूत के केस में सीबीआई जांच की मांग की थी लेकिन अब वह चाहते हैं कि पूरा मामला मुंबई पुलिस के पास ही रहे क्योंकि और कहीं इस मामले में उन्हें न्याय नहीं मिलेगा।

एफआईआर हुई है

एफआईआर हुई है

बिहार के बाद अब सीबीआई ने भी दर्ज चक्रवर्ती के खिलाफ FIR दर्ज कर ली है। इस एफआई के मुताबिक, उन पर आत्महत्या के लिए उकसाने, पैसों को धुंध, जालसाज़ी सहित आठ धाराएं लगी हैं।

इल्ज़ाम लागू किया

इल्ज़ाम लागू किया

सुशांत सिंह राजपूत के जीजाजी पर इल्ज़म लगाते हुए प्रधान चक्रवर्ती ने अपनी पिटीशन में कहा कि उनके जीजाजी गुरूग्राम के बड़े पुलिस ऑफिसर हैं और वो पटना पुलिस पर दबाव बनाकर इस मामले को कोई और निर्णायक बनाना चाहते हैं।

पैगों के लालची

पैगों के लालची

सुशांत के परिवार पर आरोप लगाते हुए शासक ने कहा है कि सुशांत का परिवार दरअसल, सुशांत के इंश्योरेंस के पैसे चाहता है और इसलिए पूरे मामले में प्रधान पर कुछ भी आरोप लगाए जा रहे हैं।

मैं लिव इन रिलेशन में था

मैं लिव इन रिलेशन में था

रिया चक्रवर्ती ने अपनी अपील में लिखा है कि वो सुशांत सिंह राजपूत की गर्लफ्रेंड थे और उनके साथ 8 जून तक लिव इन रिलेशनशिप में थे। ये सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या के छह दिन पहले तक की तारीख है।

डिप्रेशन में सुशांत थे

डिप्रेशन में सुशांत थे

प्रधान ने अपनी पिटीशन में लिखा है कि सुशांत सिंह राजपूत डिप्रेशन में थे और इसी कारण उन्होंने शूयड कर लिया।

लगातार मिली जानकारी है

लगातार मिली जानकारी है

प्रधान को मुंबई पुलिस से लगातार केस से जुड़ी जानकारी मिली है। जिस दिन सुशांत सिंह राजपूत के पिता बिहार में एफआईआर दर्ज कराने वाले थे, उसके पहले ही मुंबई पुलिस ने प्रिंस को इसकी जानकारी मिल गई थी।

दी में संशोधन है

दी में संशोधन है

सुशांत के सामान के बारे में बात करते हुए शासक ने उनके एक सफ़र और Di के एक पृष्ठों की तस्वीर डालते हुए लिखा कि मेरे पास इसके अलावा और कोई जायदाद नहीं है। यादों के नाम पर केवल ये दो बातें हैं।

कल फिर से है

कल फिर से है

अब देखना है कि ED के साथ कल हस्तक्षेप में और क्या नई बातें निकलकर सामने आती हैं। अभी तक प्रधान के बयानों और ED के इकट्ठे किए गए सुबूत में काफी अंतर है।