Khujli Ki Dawa खुजली की दवा बेस्ट टेबलेट नाम Cream in Hindi

दोस्तों खुजली एक आम बीमारी है जो विश्व के हर क्षेत्र में पायी जाने वाली आम बिमारी है ये ज्यादातर गर्म देशो में ज्यादा होती है तथा ठन्डे देशो में भी इसका प्रभाव होता है लेकिन तोडा कम होता है,

लेकिन सबसे ज्यादा खुजली का प्रकोप गर्म के साथ अद्द्रता वाले क्षेत्रो में होता है, खुजली भी बहुत प्रकार की होती है जिसका पूर्ण विवरण हम आगे पड़ने वाले है।

खुजली khujli

Contents

खुजली  (Khujali )

ये सरीर की सबसे उपरी त्वचा पर होने वाला एक चर्म रोग है जो सामान्यतया टीनिया नामक परजीवी से होता है, ये ज्यादातर सरीर के रगड़ खाने वाले स्थानो पर पाशिने और नमी के रहने के कारण होती है तथा एक दुसरे से आशानी से फैलती है।

स्टार्ट मे ये नार्मल खुजाने तक सिमित रहती है लेकिन सही से इलाज ना किया जाये तो सफेद और लाल चकतों का रूप ले लेती है बाद में जलन के साथ ज्यादा से ज्यदा बड़ने लग जाती असहनीय होती है लेकिन डरने की कोई बात नहीं है इसका इलाज सभव है, आप घरेलु नुक्सू और होम रेमेडीज से इसका इलाज असहनी से कर सकते हो।

खुजली के प्रकार (Type of Khujali )

खुज्जली प्रकार की बात करे तो इसके प्रकार विभिन्न है क्योकि इसके प्रकार होने के हिसाब पर निर्भर करता है, जेसे पसीने वाली खुजली दाद वाली खुजली कीड़े के काटने से हुई खुजली आदि,  विकिपीडिया के अनुसार खुजली चार प्रकार की होती है जिनके  प्रकार निम्न है :-

  1. दानो वाली खुजली।
  2. बिना दानो वाली खुजली।
  3. नम – दानो या बिना दानो वाली खुजली से अन्य लक्षण उत्पन होने वाली खुजली।
  4. तर खुजली जो दानो या बिना दानो वाली खुजली होने के बाद तर होती है।

खुजली की दवा (Khujli Ki Dawa)

इस पोस्ट मे हम दो प्रकार की खुजली की दवाओ (khujli ka ilaj) को बता रहे है एक खुजली की अंग्रेजी दवा नाम तथा होम रेमेडीज फॉर खुजली, जैसा कि आपको बता दें कि बहुत सारी बीमारियां का शुरुआती इलाज घर में हो जाता है।

अगर हम सुरुवात ध्यान नहीं देते हैं तो वह आगे बढ़कर बड़ी बीमारी का रूप ले लेती है,  ठीक उसी तरह खुजली मैं भी यही होता है,  अगर आपको स्टार्ट में साइन ऑफ सिस्टम दिखाई देने लगे उसी समय घरेलु नुक्से उपयोग में लाकर उनका सही से इस्तेमाल करें तो खुजली भी सही हो जाती है, इसलिए सबसे पहले हम घर वाले नुक्सो के बारे में बात करेंगे।

खुजली की दवा

1. बैंकिंग सोडा और नींबू

अगर आपको खुजली की समस्या है तो सबसे पहले आप हमेशा स्वच्छ पानी यूज करें, हो सके तो पानी को थोड़ा पहले गर्म कर ले, थोड़ा गुनगुने पानी से नहाए उस पानी में थोड़ा सा बैंकिंग सोडा और नींबू का रस मिला दे ,
दोनों एंटीबैक्टीरियल की तरह काम करेंगे शरीर में खुजली और उसके बेक्टेरिया को भी साफ करेंगे, यह आप सप्ताह में तीन से चार बार अपना सकते हैं।

2. कपड़ों को धूप में चुकाना

अगर आप की खुजली बढ़ चुकी है और बड़ा रूप धारण कर चुकी है  तो अपने कपड़े और बिस्तर को हमेशा जब सीधी धूप में सुखाएं, इससे क्या होगा कि सूर्य की अल्ट्रावायलेट किरणों से खुजली के वायरस और बैक्टीरिया मरेंगे और यह एक तरह के sanitizer की तरह काम करेगा

3. दो बार नहाये

खुजली की समस्या है तो आप हमेशा आज सुबह और शाम दो बार नहाये, ज्यादा नहाने से शरीर साफ होता है और वायरस भी साफ होते रहते हैं, नहाने के बाद शरीर को अच्छी तरह से पूछ ले जाब शरीर अछि तरहा सुख जाये तब कपड़े पहने क्योंकि आद्रता में खुजली के बैक्टीरिया ज्यादा पनपते है

4. चंदन

दोस्तों आपको मालूम है कि चंदन आयुर्वेद के हिसाब से बहुत ही महत्वपूर्ण पदार्थ हैं, जिसके औषधिय महत्व भी बहुत अधिक है आप चंदन का इस्तेमाल खुजली के निदान में भी कर सकते हैं इसके लिए आप चंदन का पतला लेप बनाकर खुजली वाले स्थान पर लगा सकते हैं||

5. तुलसी

लगभग हजारो रोगों में काम आने वाला यह एक ऐसा दिव्य पौधा है जिसका इस्तेमाल आयुर्वेद में हजारों सालों से होता आ रहा है, और लगभग हर दूसरी आयुर्वेदिक दवाई में इसका इस्तेमाल किया जाता है, आप भी खुजली के निदान में इसका इस्तेमाल कर सकते हैं इसके लिए आप नारियल के तेल में तुलसी के पत्ते पीसकर मिलाकर खुजली वाले स्थान पर दिन में दो से तीन बार लगाएं।

6. नीम

नीम एक ऐसा कड़वा पेड़ है जिसके औषधीय गुण बहुत ही अधिक है, अगर आपको खुजली की समस्या है तो आप नहाने से पहले एक बाल्टी में नीम के पत्ते डालकर नहा ले, ताजा रस के लिए आप नीम के पत्ते लेकर एक पतेले में पानी के साथ गर्म करें,
इससे नीम के पत्तों का रस बाहर आ जाएगा वह साफ पानी की बाल्टी में मिलाकर स्नान करें,  यह एक अचूक और रामबाण इलाज,  नहाने के बाद आप साफ पानी से नहा सकते हैं क्योकि नीम के पानी मैं थोड़ी बदबू जैसी आ सकती है।

7. खुजली वाले स्थान को खुला रखें

खुजली वाले स्थान को हमेशा खुला रखें जिससे क्या होगा की खुजली वाले स्थान पर जो एक्स्ट्रा नमी है तो बाहर निकलती रहेगी और ये उसको रोकने में भी काफी हद तक कारगर रहेगी, कोशिश करे पंखे की तेज हवा के सामने बेठे।

8. लहसुन

दोस्त और लहसुन तो हर घर में मिल जाता है, आपको मालूम ना हो तो बता दें लहसुन खाने के साथ खुजली के उपचार में भी काम में लिया जा सकता है।

लहसुन में पाया जाने वाला अजीना नामक पदार्थ जो एंटीफंगल की तरह काम करता है, और आप जानते होंगे की खुजली भी एक फंगल इंफेक्शन होता है।

इसके लिए आप लहसुन का पेस्ट बना लें या फिर आप इसकी छोटी-छोटी स्लाइस काटकर खुजली वाले स्थान के ऊपर लगाकर छोटी सी पट्टी बांधे, यह दिन में एक बार करें ध्यान रहे लहसुन से थोड़ी जलन भी हो सकती है अगर ज्यादा जलन होती है तो आप इसका इस्तेमाल ना करें।

9. हल्दी

रोजा रखा या जाने वाली हल्दी एक एंटीबैक्टीरियल पदार्थ है जो खुजली के उपचार में भी काम आती है ताजा हल्दी को थोड़ा के साथ मिलाकर कल का पेस्ट बना लें और पेस्ट बनाने के बाद उसको दाद वाले स्थान पर लगा दे आपको खुजली में काफी हद तक राहत मिलेगी तथा इससे खुजली आगे बढ़ने से भी रुकेगी।

10. सेब का सिरका

यह भी एक खुजली में काम आने वाली होम रेमेडीज है आप सेब के सिरके को की सहायता से खुजली वाले स्थान पर कम से कम दिन में 4 से 5 बार लगाए, इससे खुजली में काफी हद तक आराम मिलेगा।

11. एलोवेरा

एलोवेरा भी खुजली में बहुत ही उपयोगी होता है जैसा कि हमें मालूम है एलोवेरा में विटामिन ई की भरपूर मात्रा होती है जो त्वचा के लिए वारदान होती है।

आप एलोवेरा के जूस को खुजली वाले स्थान पर दिन में दो बार लगाएं इससे वहां की त्वचा को पोषण भी मिलेगा और खुजली भी कम होगी यह खुजली के बाद होने वाले सफेद चकतों को भी खत्म करता है।

12. करेला और गुलाब जल

खुजली वाले स्थान पर करेले का जूस और गुलाब जल मिलाकर लगाने पर बहुत आराम मिलता है इसे आप दिन में दो से तीन बार आजमा सकते हैं अगर फायदा होने लगे तो आप ज्यादा दिन तक लगा सकते हैं।

13. जोजोबा

जोजोबा का तेल खुजली में काफी लाभदायक होता है, लेकिन यह आसानी से मिलता नहीं है अगर आपके पास जोजोबा का तेल है तो आप इसे लेवेंडर के तेल के साथ मिलाकर खुजली वाले स्थान पर लगाएं।

14. इमली के बीज

इमली के बीज भी रिंग वार्म के इलाज के लिए काफी फायदेमंद होता हैं इसके लिए आप इमली के बीजों को पीसकर पेस्ट बना ले और खुजली वाले स्थान पर लगाएं दिन मे दो बार लगाये।

15. जैतून की पत्तियां

माना जाता है कि जैतून की पत्तियों से प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है,  खुजली में अगर आप जेतुन की तीन से चार पतिया दिन में तिन से चार बार चबाये तो काफी हद तक आराम मिलता है।

16. देसी घी

देसी घी का उपयोग दाद के उपचार के लिए बहुत लंबे समय से किया जा रहा है, देसी घी में एंटीटॉक्सिन और बहुत से ऐसे तत्व होते हैं जो दाद और फंगस को कम करने में सहायता करते हैं, इसके लिए आप देसी घी को रुई की सहायता से दिन में दो बार खुजली वाले स्थान पर लगाएं||

खुजली की बेस्ट टेबलेट नाम (Khujli ki best tablet naam)

खुजली की बेस्ट दवा बहुत सारी है, इसमें हम इसको दो प्रकार से बांट सकते हैं एक तो खुजली कम करने वाली दवा और दूसरी खुजली के रोग को कम करने वाले।

1. खुजली कम करने वाली दवाएं

हिस्टामिन या एंटी एलर्जी दवाई होती हैं जिनका मुख्य काम होता है खुजली या एलर्जी को कम करना इन दवाओं को लेने पर आपको खुजली मैं तुरंत आराम मिलेगा लेकिन यह प्रस्तुतीकरण खुजली हो रही है उस पर कितना कारगर नहीं होता है इसके लिए आपको एंटीफंगल लेना पड़ेगा

2 .एंटीफंगल

एंटी फंगल दवाई खुजली कि व्यक्ति जयप्रकाश काम करती है और पूजा की आप को मारकर खुजली को जड़ से मिटा दी है अगर आपको लगेगी खुजली केदार बड़ी है तो आप हमेशा एंटीफंगल दवाओं का सेवन भी करें इसके लिए बैठ रहे हैं आप अच्छे केमिस्ट्री डॉक्टर से सलाह कर ले।

खुजली की क्रीम का नाम (Khujali Ki Cream na name)

दोस्तों पसीने वाली खुजली मैं खुजली वाली क्रीम का बहुत ही अच्छा प्रभाव आता है, बाजार में बहुत सारी एंटी फंगल एंटी खुजली की क्रीम मिलती है।
आप उनका प्रयोग भी कर सकते हैं वैसे तो बाजार में बहुत सारी है लेकिन हम यहां पर कुछ नामी आयुर्वेदिक कंपनियों के नामी ब्रांड इसे शेयर कर रहे हैं।
  • IYUSH आयुर्वेदिक मरहम मरहम, खुजली             –  मूल्य : ₹170.00

दाद खाज खुजली की अंग्रेजी दवा Cream (Dad khaj khujli medicine cream name)

भारत सभी प्रकार की डावाओ जेसे आयुर्वेदिक, होम्योपेथिक और अलोपेथिंक दवाओं का चलन है, लेकिन हम सब जानते है की एलोपेथिक या अंग्रेजी दवाये फ़ास्ट रिलीफ के लिये जानी जाती है।
खुजली में अंग्रेजी दवाओ का प्रभाव भी सबसे तेज होता है, अगर आपको अंग्रेजी या एलोपेथिंक क्रीम के बारे में जानना है तो आप निचे दी गयी दाद खाज खुजली की अंग्रेजी दवा Cream से कोई एक चुन सकते है :- 
  • Itch Guard प्लस क्रीम – 20g (2 का पैक)             –  मूल्य : ₹185.00
  • Ring Guard Antifungal Medicated Cream    –  मूल्य : ₹64.00

खुजली की बेस्ट टेबलेट नाम  (Khujali Ki best Tablet Name)

दोस्तों बाजार में खुजली की बहुत साड़ी टेबलेट उपलब्द है क्योकि हर एक कंपनी का अपना एक ब्रांड है, अगर मे आपको किसी एक कंपनी का नाम बता दू और आपको उस कंपनी की टेबलेट ना मिले तो मुस्किल हो सकती है या यु कहे तो दुविधा में आ सकते है, इसके हमारे पास आपके लिए बेस्ट सलूशन है।

हम आपको भारत की सबसे बेस्ट दवा मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों के नाम बात रहे है जो आपने आप मे गुणवत्ता के लिए जानी जाती है आप चाहो तो उनमे से किसी एक को असहनी से चुन सकते हो वो है Divi’s, Alkem, Torrent, Glenmark, Cadila, Dr Reddy, Cipla, Lupin, Aurobindo, Sun Pharmaceuticals आदि विश्व स्तरीय ब्रांड है, कुछ पोपुलर खुजली की बेस्ट टेबलेट नाम निम्न है :-

  • Avil 25 Tablet और Avil 50 Tablet

दाद खाज खुजली की अंग्रेजी दवा Tablet (Daad Khaj Khujali Ki Angreji Dava Tablet) 

जिअसे की हमने ऊपर के पेराग्राफ में भी बताया था की Avil 25 Tablet दाद खाज खुजली की अंग्रेजी दवा Tablet है जो फ़ास्ट रिलीफ के लिए जानी जाती है, ए हर प्रकार की एलर्जी में कारगर होती है आप इसे किसी कीड़े मकोड़े के काटने के बाद होने वाली एलर्जी या खाज में भी लाम ले सकते है।

पतंजलि खुजली की दवा (Patnjali Khujali Ki Dava)

जैसा की हम सको पता है की स्वामी रामदेव ने आर्युवेद पद्धति से बहुत साड़ी दवाओं का निर्माण किया है, अगर आप को लगता है की आर्युवेदिक दवा आपके लिए बेस्ट है,
तो आप पतंजलि खुजली की दवा भी इस्तेमाल कर सकते हो, वैसे पतंजलि ने अनोको ब्रांड निकाले है उनमे दाद खाज खुजली की आयुर्वेदिक दवा मुख्य रूप से निम्न है:-

पूरे बॉडी में खुजली का इलाज ( Pure Body me Khujali Ka Ilaj)

किसी कारण वश आपकी पूरे बॉडी में खुजली हो रही है तो इसका इलाज खुजली की तीर्वता पर निर्भर करता है, अगर नार्मल है तो आप घरेलु नुक्सो के साथ avil २५ जेसी टेबलेट ले सकते हो।
अगर बहुत ज्यादा हो रही है तो आपको चिकित्सक की सलाह और इलाज की आवस्यकता हो सकती है, पूरे शरीर में खुजली की दवा मे avil २५ टेबलेट बेस्ट है।

दाने वाली खुजली की दवा (Daane Wali Khujali Ki Dava)

दोस्तों अगर आपको दाने वाली खुजली है तो सबसे पहले हमारे घरेलु नुकसो मे नहाने, कपडे धुप में सुखाने, नीम के पानी से नहाने आदि को जरुर में ध्यान में रखे।
बाद में मेडिकेटिड शोअप जेसे dettol आदि से नहाये, खुजली वाले स्थान को सुखा बनाये रखे, ज्यादा तंग कपडे न पहले तथा ढीले वस्त्रो का प्रयोग करे, अगर खुजली ज्यादा है तो डॉक्टर से सलाह और ट्रीटमेंट ले।

खुजली को जड़ से इलाज कैसे होगा? (Daad Khaj Khujli Ka Pakka Ilaj)

दोस्तों daad khaj khujli ka pakka ilaj के लिये आपको थोडा लम्बे समय तक इलाज लेना होगा क्योकि त्वचा की उपरी सतह से तो निसान मिट जाते है लेकिन त्वचा के निचे उसका असर रह जाता है।
खुजली को जड़ से इलाज लिए आप बिमारी खतम होने के बाद भी ७ दिन तक दवाई ले या Itching home remedies का इस्तेमाल करते रहे, बाद मे बंद करने के बाद फिर कभी आपको लक्षण दिखे तो उसी समय इलाज स्टार्ट करे।  

डॉक्टर को कब दिखाये

खुजली में डॉक्टर को कब दिखाएं? दोस्तों अगर आपने घरेलु नुक्से काम में लिए और फिर भी आप भी कुछ भी आराम नहीं आता, तो आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

घरेलू नुक्से केवल छोटे रोगों और प्राथमिक उपचार के रूप में काम में लिए जा सकते हैं, लेकिन कोई भी बीमारी जब लंबी बढ़ने लगे या आपको लगे कि ये ठीक नहीं हो रही है या दिन-ब-दिन ज्यादा बढ़ रही है तो हमेशा आप डॉक्टर की सहायता ले।

वरना क्या होगा कि आपका रोग काफी बड जाएगा और डॉक्टर के पास जाने पर आपको लंबा उपचार लेना पड़ सकता है इसलिए जहां तक कोशिश हो डॉक्टर को दिखाये।

You May Also Like

About the Author: Hari Kishan