What is GST full form in English with meaning जी एस टी हिंदी में

दोस्तों अआपने GST का नाम तो सूना ही होगा ये 1 जुलाई 2017 से पुरे भारत में सामान रूप से लागू की गयी है,  लेकिन what is gst meaning ये बहुत कम लोगो को पता है| वेसे आपने एक नारा तो सुना ही होगा की हिन्दुस्तान बदल रहा है जी हा वाकई में हिन्दुस्तान बदल रहा है आज देश में नए नए नियम जो देश को बदलने के लिए बहुत ही आवश्यक है जेसे की गस्त जी एस टी लेकिंन अभी तक  GST full form in Hindi Goods and Services Tax जो काफी लोगो को मालुम नहीं है तथा बहुत लोगो को ये भी पता नहीं है की what is GST या जी एस टी है क्या है?

आज के इस पोस्ट में हम what is gst tax के साथ what is gst meaning के बारेअत करेंगे| दोस्तों अभी कुछ दिनों पहले ही एक नियम जिसे जी एस टी कहते है भारत में लागू हुआ था जिसे पुरे विश्व में gst India के नाम से जाना गया और इसने पुरे भारत की अर्थव्यवस्था को प्रभावित किया है, इसके कुछ फायदे भी हुए है और कुछ नुक्सान भी हुए है|

   gst meaning

What is GST full form in Hindi or GST meaning

जैसा की भारतीय सरकार ने GST full form Goods and Services Tax बताया है, इसका हिंदी में अर्थ वस्तु एवं सेवा कर भी कहते है| इसको one nation, one tax से भी व्यक्त किया जा रहा है| कहने का मतलब पुरे भारत में एक टैक्स लगेगा|  ये एक प्रकार अप्रत्यक्ष कर है जो पुरे भारत के लोगो पे चाहे वो छोटे या बड़े व्यापारी हो, तथ ये सभी को प्रभावित करता है| अगर कोई व्यापारी GST दे देता है तो उसको बार बार अलग अलग जेसे राज्य सरकार, केंद्र सरकार आदि को पे नहीं करना पड़ेगा| वेसे ये वास्तव में बहुत ही अच्छी सुविधा है, खाश कर व्यापारी वर्ग को आगे के समय में इससे काफी फ्गयादा होने वाला है|

आपको बता दे की भारत में ये कानून बहुत देर से लागू हुआ है, विश्व के ज्यादातर देशो में ये कानून बहुत पहले से ही लागू हो गया था और अगर हमारे पडोसी देश पाकिस्तान की बात करे तो यहाँ भी ये बहुत पहले से लागू हो रखी है| वैसे ये मोदी सरकार का बहुत बड़ा फैसला है जिसकी सरहाना बड़े बड़े वाणिज्यिक विद्वान कर रहे है|

What is GST full form in English

Interesting Facts about GST India 

दोस्तों ये भारत सरकार का व्यापारिक कानून जो अभी लागु ही हुआ है और इसका अभी पूरी तरह से लोगो मालूम नहीं है, यहाँ कुछ interesting facts है जो जी एस टी के के विचार से लागू होने तक घटित हुए या सम्बन्धित है :-

क्षेत्रीय विस्तार               –  भारत

कानून बनाया गया         –  राज्य सभा और लोक सभा मिलकर

3 अगस्त, 2016             –  राज्य सभा में ये बिल पारित

मई, 2015                     –  पार्लियामेंट में ये बिल पारित

बिल लाने का विचार      –   वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली द्वारा

सबसे पहले ये बिल लाने का विचार वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली द्वारा ही रखा गया था, वेसे सबसे पहले 2006 में केन्द्रीय मंत्री पी चद्म्ब्रम ने रखा और 1 अप्रेल 2010 को ये रखने का प्रावधान रखा गया|  ये कानून  राज्य सभा और लोकसभा दोनों के सदस्यों ने सर्व सहमति से मिलकर बनाया,  हालाँकि इसका विपक्ष द्वारा भारी विरोध किया गया था| लेकिन ज्यादा मतों और सद्स्तो के कारण ये कानून लागु हो ही गया| 3 अगस्त, 2016 में सबसे पहले ये राज्य सभा तथा मई, 2015 को ये लोकसभा में पारित  किया गया|
gst registration process

India GST

भारत में GST केंद्र और राज्य सरकार दोनों को मिलाकर एक tax कजे रूप में लिया जाता है| अगर किसी वास्तु पर 18% tax लगता है तो 14% CGST तथा 14% SGST लगता है|’

GST Registration

अगर अप व्यापारी हो तो आपको अभी किसी भी प्रकार के व्यापार कर के लिए आपको जीएसटी नामांकन करवाना आवश्यक होगा| आप निम्न मेसे काहीसे भी पंजीकृत करवा सकते है:-

  • लक्ज़री टैक्स
  • सेवा टैक्स
  • प्रवेश टैक्स
  • मनोरंजन टैक्स
  • केन्द्रीय उत्पाद शुल्क
  • राज्य सेल्स टैक्स अथवा वैट

जीएसटी के लिए नामांकन कैसे कराएं GST registration process

जीएसटी के लिए नामांकन ज्यादा मुस्क्लिल काम नहीं है अगर आपके पास चार्टेड अकाउंटेंट है तो वो आपके लिये कुछ अपनी फीस लेकर करवा देगा| आप खुद भी इसका नामांकन करवा सकते है|

  • ये पूरी तरह से ऑनलाइन प्रक्रिया है|
  • प्रक्रिया से पहले आप अपने दस्तावेजो को स्कैन करके अपने computer में सेव करले|
  • फिर आप इसकी ऑफिसियल साईट https://www.gst.gov.in/पे जाकर आगे की प्रक्रिया को अंजाम दे सकते है|
  • इसके वेब पोर्टल में सबसे पहले आपको एक ID बनानी पड़ती है उसके बाद आगे का प्रोसेस होता है|
  • जब आपका अकाउंट बन जाता है तो आप provisional ID पासवर्ड से लॉग इन कर सकते है|
  • इसके बाद आपको दस्तावेज आदि की आवस्यकता पड़ती है|

GST registration document या जीएसटी के लिए नामांकन के लिए दस्तावेज

  1. प्रोविजनल आईडी और पासवर्ड जो वार्ड अफसर से ली गयी हो|
  2. व्यापार का संवैधानिक प्रमाण
  3. बैंक अकाउंट संख्या
  4. आईएफ़सीएस कोड
  5. अपना ईमेल अकाउंट
  6. वैद्य मोबाइल संख्या
  7. कर दाता की बैंक अकाउंट की इमेज या पीडीऍफ़ कॉपी|
  8. जो भी इमेज या कॉपी हो वो 1MB से ज्यादा नहीं होनी चाहिए|

अगर आपके व्यापार में पार्टनर है तो आपका और आपके पार्टनर की पासपोर्ट साइज़ इमेज| आप इमेज की साइज़ और क्वालिटी ऑफिसियल साईट पे अपलोड करते वक्त देख सकते है|

Note – जब आवेदन की परक्रिया पूर्ण हो जाती है तो आवेदक को एक यूनिक एकनॉलेजमेंट संख्या डी जाती है वो ही Registration नंबर होते है जिसका उपयोग आमतौर पर होता है|

GST Types

भारत में GST दो प्रकार की राखी गयी है :-

1. केन्द्रीय GST

 2. प्रांतीय GST

ये दोनो मिलकर तय करते है की जी एस टी कर किसी वास्तु का क्या होगा| ये आय तथा स्वीकार्यता आदि पे निर्भर होती है| इसके साथ ही आय की परिभाषा भी सभी प्रान्तों में एक सामान ही रखी गयी है|

What is gst Benefits जीएसटी टेक्स के फायदे 

GST लागू होने पर टैक्स की दरो में कामी आएगी, लेकिन जिओ अभी tax चोरी कर रहे है वो नहीं कर पायेंगे जिससे कर दाता कर चुरा नहीं पायेंगे जिससे कर दाताओ की संख्या पांच से छह गुना तक बड़ने के आशार है|

इससे राज्य और केंद्र दोनों सरकारों को फायदा होगा तथा सरकारी काफी आय बढेगी|

  • अब आसानी से कोई tax चोरी नहीं कर पायेगा|
  • बिना कर कोई सामान बेचना होगा मुश्किल|
  • सरकारी खजाने की आया बढेगी|
gst meaning in Hindi and English

Verdict

आशा करते है आपको ये What is GST full form in English का पोस्ट पसंद आया होगा, अगर आपको gst meaning के बारे कुछ सुग्गेस्तिओं है या India GST के बारे में कुछ नविन जानकारी है तो आप हमें इस पोस्ट के निचे दिये गए कमेंट में बता सकते है|

One Response

  1. SUKMANRAM August 31, 2017